Hanuman Ji Ki Aarti हनुमान जी की आरती – Aarti Kije Hanuman Lala Ki

Hanuman Ji Ki AartiAarti Kije Hanuman Lala Ki – हनुमान जी की आरती – आरती कीजे हनुमान लला की.

हनुमान जी की स्तुति के लिए हनुमान चालीसा के पाठ के पश्चात हनुमान जी की आरती करना अत्यंत ही आवश्यक है.

मंगलवार के दिन प्रातः काल और संध्या काल में हनुमान जी की आरती अवस्य करें.

Hanuman Ji Ki Aarti हनुमान जी की आरती

Hanuman Ji Ki Aarti - Aarti Kije Hanuman lala Ki

|| श्री हनुमान जी की आरती ||

आरती किजै हनुमान लला की |
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

जाके बल से गिरवर काँपे |
रोग दोष जाके निकट ना झाँके ॥

अंजनी पुत्र महा बलदाई |
संतन के प्रभु सदा सहाई ॥

दे वीरा रघुनाथ पठाये |
लंका जाये सिया सुधी लाये ॥

लंका सी कोट संमदर सी खाई |
जात पवनसुत बार न लाई ॥

लंका जारि असुर संहारे |
सियाराम जी के काज सँवारे ॥

लक्ष्मण मुर्छित पडे सकारे |
आनि संजिवन प्राण उबारे ॥

पैठि पताल तोरि जम कारे|
अहिरावन की भुजा उखारे ॥

बायें भुजा असुर दल मारे |
दाहीने भुजा सब संत जन उबारे ॥

सुर नर मुनि जन आरती उतारे |
जै जै जै हनुमान उचारे ॥

कचंन थाल कपूर लौ छाई |
आरती करत अंजनी माई ॥

जो हनुमान जी की आरती गाये |
बसहिं बैकुंठ परम पद पायै ॥

लंका विध्वंश किये रघुराई |
तुलसीदास स्वामी किर्ती गाई ॥

हनुमान जी की आरती का महत्व Importance of Hanuman Ji Ki Aarti

  • श्री हनुमान जी की आरती | Shri Hanuman Ji Ki Aarti करना बजरंगबली की स्तुति करने का सबसे सफल और सरल माध्यम है.
  • हनुमान जी की आरती करने से भक्त को भगवान हनुमान की परम कृपा की प्राप्ति होती है.
  • नकारात्मक ऊर्जा के नाश और सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह के लिए नियमित रूप से हनुमान जी की आरती करें.
  • हनुमान जी की आरती सम्पूर्ण बिस्वास के साथ करने से मनुष्य के आत्मबल में बृद्धि होती है.
  • हनुमान जी बल और बुद्धि के देवता हैं. उनकी स्तुति करने से मनुष्य के अंदर का भय समाप्त हो जाता है.

Hanuman Ji Ki Aarti Lyrics – Aarti Kije Hanuman Lala Ki Lyrics

Aarti Kije Hanuman Lala Ki Lyrics

|| Hanuman Ji Ki Aarti ||

Manojawan Marut Tulyavegam, Jitendriyam Buddhimatam Varishtham.

Vatatmajam Vanaryuth Mukhyam, ShriRamDutam Sharnam Prapaddhe.

Aarti Kije Hanuman Lala Ki.

Dusht Dalan Ragunath Kala Ki.

Jake Bal Se Girivar Kaanpe.

Rog Dosh Ja Ke Nikat Na Jhaanke.

Anjani Putra Maha Baldaaee.

Santan Ke Prabhu Sada Sahai.

De Beera Raghunath Pathaaye.

Lanka Jaari Siya Sudhi Laaye.

Lanka So Kot Samundra-Si Khai.

Jaat Pavan Sut Baar Na Layi.

Lanka Jaari Asur Sanhare.

Siyaramji Ke Kaaj Sanvare.

Lakshman Moorchhit Pade Sakaare.

Aani Sajeevan Pran Ubaare.

Paithi Pataal Tori Jam-kaare.

Ahiravan Ke Bhuja Ukhaare.

Baayen Bhuja Asur Dal Mare.

Daahine Bhuja Santjan Tare.

Sur Nar Muni Aarti Utare.

Jai Jai Jai Hanuman Uchaare.

Kanchan Thaar Kapoor Lau Chhayi.

Aarti Karat Anjana Maayi.

Jo Hanumanji Ki Aarti Gaave.

Basi Baikunth Param Pad Pave.

Lanka Vidhwansh Kiye Raghurai.

Tulsidas Swami Kirti Gaayi.

Aarti Kije Hanuman Lala Ki.

Dusht Dalan Raghunath Kala Ki.

|| Pawanputra Hanuman Ki Jai ||

हनुमान जी की आरती कैसे करें? विधि

  • हनुमान जी की आरती | Hanuman Ji Ki Aarti नित्य प्रतिदिन की जा सकती है.
  • मंगलवार के दिन तो हनुमान जी की आरती अवस्य ही करें.
  • इसके अलावा शनिवार को भी हनुमान जी की आरती करना शुभ माना गया है.
  • रामनवमी, हनुमान जयंती आदि उत्सवों पर हनुमान जी की आरती करना अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी होता है.
  • प्रातः काल और संध्या काल का समय हनुमान जी की आरती के लिए शुभ माना गया है.
  • हनुमान जी की पूजा आराधना करने के पश्चात हनुमान चालीसा का पाठ करें.
  • उसके पश्चात हनुमान जी की आरती करें.
  • स्नान आदि करने के पश्चात गंगा जल को खुद पर और अपने आस पास छिड़क कर सभी को पवित्र कर लें.
  • फिर जाकर ही हनुमान जी की पूजा अर्चना और आरती शुरू करें.
  • हनुमान जी की आरती शुरू करने से पूर्व हनुमान जी का एक मंत्र अवस्य पढना चाहिए.
  • यह शुभ माना गया है.
  • हनुमान जी का वह मंत्र निचे दिया जा रहा है.

हनुमान जी की आरती से पहले यह हनुमान मंत्र अवस्य पढ़ें.

बहुत से हनुमान जी के भक्तों का यह मानना है की हनुमान जी की आरती – आरती कीजे हनुमान लला की, शुरू करने से पूर्व यह हनुमान मंत्र पढ़ना अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी सिद्ध होता है.

मंत्र है –

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं ,
जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम् ||

वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं ,
श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे ||

Manojawan Marut Tulyavegam,
Jitendriyam Buddhimatam Varishtham.

Vatatmajam Vanaryuth Mukhyam,
ShriRamDutam Sharnam Prapaddhe.

विडियो

हनुमान जी की आरती | Hanuman Ji Ki Aarti से संबंद्धित कुछ यूट्यूब विडियो हमने निचे दिया हुआ है. आप इन विडियो को देख सकतें हैं.

Video source – YouTube Hdhrm

Aarti Kije Hanuman Lala Ki

Video source – YouTube T series

Benefits of Hanuman Ji Ki Aarti हनुमान जी की आरती से लाभ

  • हनुमान जी की आरती Hanuman Ji Ki Aarti करने से मनुष्य को श्री हनुमान की कृपा की प्राप्ति होती है.
  • जहाँ हनुमान जी की आरती होती है उस जगह और उस जगह के आस पास की समस्त नकारात्मक ऊर्जा का नाश हो जाता है.
  • हनुमान जी की आरती से सकारात्मक उर्जा प्रवाहित होने लगती है.
  • मनुष्य के आत्मबल में बृद्धि होती है.
  • शारीरिक रोगों और कष्टों से उक्ति मिलती है.
  • एकाग्रता में बृद्धि होती है.
  • जीवन में सफलता की प्राप्ति होती है.
  • हनुमान जी की आरती से मनुष्य के भय का नाश होता है.

हनुमान जी की आरती ऑडियो

Hanuman Ji Ki Aarti | हनुमान जी की आरती से संबंद्धित कुछ ऑडियो हमने निचे दियें हैं. आप इन्हें प्ले बटन को दबाकर सुन सकतें हैं.

Aarti Kije Hanuman Lala Ki

Source – Soundcloud

Hanuman Ji Ki Aarti

Hanuman Ji Ki Aarti PDF

क्या आप हनुमान जी की आरती | Hanuman Ji Ki Aarti को पीडीऍफ़ में डाउनलोड करना चाहतें हैं.

आप निचे दिए गए लिंक पर क्लीक करें. इससे आपके सामने इसी साईट की हनुमान जी की आरती पीडीऍफ़ डाउनलोड पेज खुलेगा.

जहाँ से आप मात्र एक क्लीक से हनुमान जी की आरती को डाउनलोड कर पाएंगे.

आठ ही अगर आप हनुमान जी की आरती को प्रिंट करना चाहें तो वो भी आप आसानी से कर पायेंगे.

निवेदन

हनुमान जी की आरती Hanuman Ji Ki Aarti को पूर्ण बिस्वास, सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ गाते हुए श्री हनुमान की स्तुति करें.

आप सब पर हनुमान जी की परम कृपा हमेशा बनी रहेगी.

इस पोस्ट में किसी भी प्रकार के सुधार के लिए आप हमें निचे कमेंट बॉक्स में अवस्य लिखें.

आप अपने विचार और सुझाव हमें कमेंट के माध्यम से लिख सकतें हैं.

आप सबके सुझाव से ही यह साईट आज इतनी सफल साईट बन पाई है.

कमेंट बॉक्स में जय हनुमान और जय श्री राम अवस्य लिखें.

हनुमान जी की आरती करने का सबसे शुभ दिन कौन सा होता है?

हनुमान जी की आरती करने के लिए प्रत्येक दिन ही शुभ होता है.
वैसे मंगलवार को हनुमान जी का दिन माना गया है. इस कारण से मंगलवार को हनुमान जी की आरती करना सबसे उत्तम माना गया है.
हनुमान जयंती और राम नवमी के दिन भी हनुमान जी की आरती करना शुभ होता है.

हनुमान जी की आरती का सही समय कौन सा है?

प्रातः काल और संध्या काल का समय हनुमान जी की आरती के लिए सही समय होता है.

इन प्रकाशनों को भी देखें –

Hanuman Chalisa in English Lyrics

Hanuman Bisa – हनुमान बीसा – श्री हनुमद् बीसा

Leave a Comment